Total Pageviews

Saturday, February 26, 2011

कांच की इमारतें

कांच की इमारतें टूटने से पहले ,
हर राज़ बयां कर देती हैं ,

अन्दर रहने वालों की नियत का ,
हर हाल बयां कर देती हैं ,

जो कुछ भी गहरे अन्दर है ,
सब साफ़ नज़र आ जाता है ,

है कैसी ज़िन्दगी उनकी,
सब ढंग पता चल जाता है ,

रात ढले इन शीशों में ,
रोशन सन्नाटा होता है ,

रंगीन महफ़िलें सजती हैं ,
हर जश्न बजा हो जाता है ,

इमारतें ये नाज़ुक हैं ,
लोग वो सब खुद भी कहते है ,

फिर भी न जाने बात है क्या ,
इन्हीं शीशों के घरों में रहते हैं ,

सीने में पत्थर रखते हैं ,
दिल मान उसे बहलाते हैं ,

फिर क्यूँ कर मेरे हाँथ में पत्थर ,
देख वो सब डर जाते हैं|||||||



       

Friday, February 25, 2011

बचपन

   बदहाल जहां पर बचपन है ,        
                  तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,                 
हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
तो कहानी मुल्क की क्या होगी ,
कहीं चाय पिलाता बचपन है ,
कहीं मेज़ पोंछता  बाल ह्रदय ,
कहीं भूख से व्याकुल नेत्र दिखे ,
कहीं तंग सिसकता एक मन है ,
बदहाल जहां पर बचपन है ,
तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
तो कहानी मुल्क की क्या होगी |
                                                




        इस देश के नेता कहते हैं ,
  कि देश हमारा खूब बढ़ा ,
वो भूल गए हैं बात यही ,
बचपन मे  है अवरोध खड़ा  ,
शिक्षा की कमी भोजन की कमी ,
तो नूर -ए-कहानी क्या होगी ,
बदहाल जहां पर बचपन है ,
तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
  हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
                                                      तो कहानी मुल्क की क्या होगी |
                                                     













चाचा  नेहेरू  के देश मे ये ,
बचपन का देखो हाल सभी ,
जहाँ होती थी गुल की खुशबू ,
वहां ईंट उठाती गुल होगी ,
बदहाल जहां पर बचपन है ,
तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
तो कहानी मुल्क की क्या होगी ,
                                                               

                                               नन्हे हाथों की रेखाएं ,
                                                        कंकड़ पत्थर से मिटने लगीं ,
                                                       नन्हे का बचपन खोने लगा ,
                                                      रेखा की कहानी क्या होगी ,         
                                                      बदहाल जहां पर बचपन है ,
                                                     तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
                                                      हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
                                                      तो कहानी मुल्क की क्या होगी |
                                                       
                                                       बचपन जब तक भूखा होगा ,
                                                        मज़बूत जवानी क्या होगी ,
                                                      बदहाल जहां पर बचपन है ,
                                                      तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
                                                       हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
                                                      तो कहानी मुल्क की क्या होगी ||||||||
 



Wednesday, February 23, 2011

परदा


परदा नज़ाकत  का , परदा शर्म  का ,       
परदा संस्कारों का , परदा विचारों का ,
परदा दरवाजे का , परदा जनाज़े का ,
परदा पर्वतों का , परदा औरतों का ,
परदा आतंक का , परदा सरहदों का ,
परदा फिल्म का , परदा बुजुर्गों के इल्म का ,
सब कुछ सहेज  रखा है इस परदे ने अब तक ,
न जाने रोक पायेगा इन राज़ों को कब तक ,
सच तो ये है की और भी कुछ भयानक हो सकता था ,
कम खोया है हमने और भी कुछ खो सकता था ,














शुक्र है खुदा का जो हमारे दिमाग पर परदा डाल रखा है ,
हम बहुत समझदार हैं हमे इस गुमान मैं पाल रखा है ,
वरना आज तक न जाने कितनी बहने बेपर्दा हो चुकी होतीं ,
और अपने जर्जर अंचल को देखकर हर बार रोतीं ,
संस्कारों के एक परदे ने युवा मन को सख्ती से रोक रखा है ,
ये यकीं दिलाने के लिए की परदे पर दिखने वाला दृश्य तो बस एक धोखा है ,
औरतों मैं नजाकत का वो परदा अब बाक़ी ही ही कहाँ रहा ,


हर बार जब किसी बुज़ुर्ग ने अपनी पोती से कहा ,
बेटी जींस की जगह सूट पहन कर जाया करो ,
पोती बोली दादाजी हर बार वही पुरानी बात मत दोहराया करो ,
सूट और दुपट्टे तो अब गुज़ारे ज़माने हो गए ,
बड़े बूढों  के संस्कार न जाने किस दुनियां में खो गए ,
कल तक जो नजाकत हुआ करती थी आज वो ओल्ड फैशन हो गया ,
अब तक जिस पर भी परदा था हक़ीकत तो ये है की वो सब बेपर्दा हो गया ------------------------------------------------------------------------
  

 
 

मासूम कली

             ' मासूम कली मुस्काई थी,              
              अभी थोडा ही शरमाई थी,
              आँखों को उसने खोला था,
            और सपनों कि अंगड़ाई थी,
             नापाक निगाहों ने उसपर 
            कुछ ऐसा दृष्टिपात किया
मासूम कली के यौवन पर,                 
            निर्ममता से यूँ वार किया,
            चिल्लाई कली तडपी बेहद,
             आंचल को लेकर भागी वो,
             खुद कि ही लाज बचने को,
  
बेहाल कली यूँ कुचली गयी, 
            नापाक निगाहों के  हांथों,
            तब गरज बरस के एक स्वर
             नभ मे यूँ एकाएक गूंजा,   
            
ऐ दुष्ट निर्दयी दानव तू,
             कब तक ये रूप दिखायेगा,
             नारी कि कोख से उपजा तू,  
             इस धरती मे मिल जायेगा,
  
लगता है तू  अब भूल गया अपनी माँ के उस आंचल को,
   तेरी बेटी ही भुगतेगी अब तेरे इन पापों को,
     तब रोयेगा तू पछतायेगा,
    पर कुछ न करने पयेगा 
     और तेरा ही वो निर्मम शब्द,
                तुझे अंत काल दिखलायेगा,
                 ऐ दुष्ट आत्मा याद रहे,
                 तू भी नारी का हिस्सा है,
                 ये तल्ख़ शब्द सिर्फ व्यंग नहीं,
                     इस धरती का ही किस्सा है'-----------------------------------------
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...