Total Pageviews

Wednesday, February 23, 2011

मासूम कली

             ' मासूम कली मुस्काई थी,              
              अभी थोडा ही शरमाई थी,
              आँखों को उसने खोला था,
            और सपनों कि अंगड़ाई थी,
             नापाक निगाहों ने उसपर 
            कुछ ऐसा दृष्टिपात किया
मासूम कली के यौवन पर,                 
            निर्ममता से यूँ वार किया,
            चिल्लाई कली तडपी बेहद,
             आंचल को लेकर भागी वो,
             खुद कि ही लाज बचने को,
  
बेहाल कली यूँ कुचली गयी, 
            नापाक निगाहों के  हांथों,
            तब गरज बरस के एक स्वर
             नभ मे यूँ एकाएक गूंजा,   
            
ऐ दुष्ट निर्दयी दानव तू,
             कब तक ये रूप दिखायेगा,
             नारी कि कोख से उपजा तू,  
             इस धरती मे मिल जायेगा,
  
लगता है तू  अब भूल गया अपनी माँ के उस आंचल को,
   तेरी बेटी ही भुगतेगी अब तेरे इन पापों को,
     तब रोयेगा तू पछतायेगा,
    पर कुछ न करने पयेगा 
     और तेरा ही वो निर्मम शब्द,
                तुझे अंत काल दिखलायेगा,
                 ऐ दुष्ट आत्मा याद रहे,
                 तू भी नारी का हिस्सा है,
                 ये तल्ख़ शब्द सिर्फ व्यंग नहीं,
                     इस धरती का ही किस्सा है'-----------------------------------------

4 comments:

  1. कृपया वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...

    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो no करें ..सेव करें ..बस हो गया !

    ReplyDelete
  2. विचारणीय कविता है.

    ReplyDelete
  3. jab tak law hard nahi hota tab tak ye dust nerdai puresh samag apni nerdita dekhata rehaiga app ne likha accha hai D

    ReplyDelete
  4. bahut ache masoom kali padhe ke u laga ki premchand ji ka likha kuch padh raha hu....

    owesum bahut ache janab...

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...