Total Pageviews

Friday, February 25, 2011

बचपन

   बदहाल जहां पर बचपन है ,        
                  तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,                 
हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
तो कहानी मुल्क की क्या होगी ,
कहीं चाय पिलाता बचपन है ,
कहीं मेज़ पोंछता  बाल ह्रदय ,
कहीं भूख से व्याकुल नेत्र दिखे ,
कहीं तंग सिसकता एक मन है ,
बदहाल जहां पर बचपन है ,
तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
तो कहानी मुल्क की क्या होगी |
                                                




        इस देश के नेता कहते हैं ,
  कि देश हमारा खूब बढ़ा ,
वो भूल गए हैं बात यही ,
बचपन मे  है अवरोध खड़ा  ,
शिक्षा की कमी भोजन की कमी ,
तो नूर -ए-कहानी क्या होगी ,
बदहाल जहां पर बचपन है ,
तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
  हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
                                                      तो कहानी मुल्क की क्या होगी |
                                                     













चाचा  नेहेरू  के देश मे ये ,
बचपन का देखो हाल सभी ,
जहाँ होती थी गुल की खुशबू ,
वहां ईंट उठाती गुल होगी ,
बदहाल जहां पर बचपन है ,
तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
तो कहानी मुल्क की क्या होगी ,
                                                               

                                               नन्हे हाथों की रेखाएं ,
                                                        कंकड़ पत्थर से मिटने लगीं ,
                                                       नन्हे का बचपन खोने लगा ,
                                                      रेखा की कहानी क्या होगी ,         
                                                      बदहाल जहां पर बचपन है ,
                                                     तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
                                                      हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
                                                      तो कहानी मुल्क की क्या होगी |
                                                       
                                                       बचपन जब तक भूखा होगा ,
                                                        मज़बूत जवानी क्या होगी ,
                                                      बदहाल जहां पर बचपन है ,
                                                      तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
                                                       हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
                                                      तो कहानी मुल्क की क्या होगी ||||||||
 



6 comments:

  1. बहुत अच्छी लगी आपके यह कविता.

    सादर

    ReplyDelete
  2. वाह ! मन प्रसन्न हो गया इस उम्दा प्रस्तुति से
    बदहाल जहां पर बचपन है ,
    तो मुल्क की जवानी क्या होगी ,
    हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
    तो मुल्क की कहानी क्या होगी.
    जब तक आम जनता जागरूक नहीं होगी इस मुल्क का
    भगवान् ही मालिक है

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. बदहाल जहां पर बचपन है ,
    तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
    हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
    तो कहानी मुल्क की क्या होगी ||||||||

    बहुत सार्थक और सटीक प्रस्तुति..बहुत सुन्दर और मर्मस्पर्शी रचना...बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर - आपके लेखन में सार्थक सोच स्पष्ट परलक्षित होती है - साधुवाद

    ReplyDelete
  6. चाचा नेहेरू के देश मे ये ,
    बचपन का देखो हाल सभी ,
    जहाँ होती थी गुल की खुशबू ,
    वहां ईंट उठाती गुल होगी ,
    बदहाल जहां पर बचपन है ,
    तो जवानी मुल्क की क्या होगी ,
    हाथों की लकीरें मिटने लगीं ,
    तो कहानी मुल्क की क्या होगी padh ke rongete khade ho gai bauth badhia chacha neharu ke janam diwas per children diwas manete hai but uss din bhee bacche kudda aur mal dhote hai kayunke pate ke bhook ke age kuch nahi dikhata jeena hai to ye jaher peena padega

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...