Total Pageviews

Wednesday, March 9, 2011

ना तुम होगे , ना हम होंगे |

 धरती पर होगी शांत पवन ,                     
उन्मुक्त गगन , खुशनुमा चमन ,
चहुँ ओर उजाला हो बिखरा ,                                                        
चांदी सोना हो शुद्ध खरा ,                                  
उस वक्त कहाँ जीवन होंगे ,
ना तुम होगे ना हम होंगें |

होगी प्रकृति तब हरी भरी ,
पानी से होंगीं नदी भरी ,
पक्षी का कलरव गूंजेगा ,
वृक्षों की होगी रेख बड़ी ,
उस वक्त कहाँ जीवन होंगे ,
ना तुम होगे ना हम होंगें |


ना गलाकाट स्पर्धा हो ,
ना बेकारी की भूंख बड़ी ,
हर ओर विराजे शून्य शांति ,                                                         
और होगी तब एक अंत घडी ,
उस वक्त कहाँ जीवन होंगे ,
ना तुम होगे ना हम होंगें |                                                  
 
ए मानव इतना याद रहे ,
तू ईश्वर की कठपुतली है ,
जब डोर उठा देगा तेरी ,
तब तेरी होगी लाश पड़ी ,
उस वक्त कहाँ जीवन होंगे ,
ना तुम होगे ना हम होंगें |
   

3 comments:

  1. ए मानव इतना याद रहे ,
    तू ईश्वर की कठपुतली है ,
    जब डोर उठा देगा तेरी ,
    तब तेरी होगी लाश पड़ी ,
    उस वक्त कहाँ जीवन होंगे ,
    ना तुम होगे ना हम होंगें |

    भावों और शब्दों का बहुत सुन्दर संगीतमयी संयोजन..बहुत प्रेरक सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  2. बहुत प्रेरक रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...