Total Pageviews

Saturday, May 28, 2011

वक्त !@@@@@

वक्त से जीत पाना किसी के बस की बात नहीं ,
वक्त के आगे इन्सान तो क्या खुद खुदा की भी कोई औकात नहीं ,
कौन कहता की वक्त एक दिन बदल जाता है ,
ये तो वो हस्ती है जो हर बार हमें उन्ही तीन सुइयों के साथ मूंह चिढ़ता है ,
यूं लगता है मानो हमसे कुछ कह रहा है  ,
आखिर क्यूँ वो इस तरह बह रहा है ,
हम मूर्ख है जो उसकी जबां समझ नहीं पाए हैं  ,
वो क्या कह रहा है हम ये जान ही नहीं पाए हैं ,
वो कहता है की रुक कर सोच मैं आज ही दोबारा तेरे पास फिर आऊँगा ,
तेरी हर दुविधा को एक न एक दिन मैं ही मिटाऊँगा ,
पर हम मूर्ख उसे गुज़ारा वक्त जान कर भूल जाते हैं ,
वक्त के उस छिपे से इशारे को समझ  ही नहीं पाते हैं ,
याद रखना ऐ दोस्त की घडी की सुइयां भी एक वक्त दो बार बजाती हैं ,

ये तो एक चेतावनी है जो वो हमें हर बार दे जाती है ,
मानो वो कह रही हो की वक्त है तू अभी भी सम्भल जा ,
मान ले अपनी ग़लती और फिर से सुधर जा ,
वरना एक न एक दिन तू फिर मुझे कोसेगा ,
ग़लती न होने पर भी मुझे ही दोष देगा ,
पर मैं तब कुछ नहीं कर पाऊँगा ,
गुज़र चूका हूँगा मै ,
फिर लौट के न आऊँगा , 
गुज़र चूका हूँगा मै ,
फिर लौट के न आऊँगा ||||||

 

 
   

2 comments:

  1. वक़्त को बहुत अच्छे शब्द दिए हैं आपने.
    वक़्त हम सबको सीख देता है निरंतर कर्म रत रहने की और चलते रहने की.

    सादर

    ReplyDelete
  2. सही कहा वक्त कभी लौट कर नहीं आयेगा,

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...